Blogger vs WordPress in Hindi » जाने किससे है कमाई ज्यादा

comparison between blogger and WordPress

दोस्तों जब भी कोई किसी ब्लॉग पर काम करना चाहता है या आर्टिकल लिखना चाहता है, तो उसके मन में हमेशा यही दुविधा बनी रहती है की, वो कौन से ब्लॉगिंग प्लेटफार्म को चुने। और कौन सा ब्लॉगिंग प्लेटफार्म उसके लिए सबसे सही रहेगा।

आज के समय में बहुत से ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म्स है। जैसे – WordPress, Blogger, Tumblr, Medium, Wix, Weebly, WordPress.com, Ghost, Squarespace, Drupal, Joomla, HubSpot, LiveJournal, Typepad, Web.com, इत्यादि। इन सभी प्लेटफॉर्म्स के कुछ फायदे तो कुछ नुक्सान है।

इस लेख में हम पढ़ेंगे Blogger vs WordPress in Hindi और ये देखेंगे की इन दोनों में क्या-क्या तुलनात्मक अंतर है।

ब्लॉगर क्या है?

ब्लॉगर एक ब्लॉगिंग प्लेटफार्म है जिसकी स्थापना 23 अगस्त 1999 को हुई थी। इसके संस्थापक इवान विलियम्स और मेग होरिहानका है। ब्लॉगर को पायरा लैब्स द्वारा बनाया गया था। लेकिन पायरा लैब्स को गूगल ने फ़रवरी 2003 में खरीद लिया था। ब्लॉगर की प्रोग्रामिंग भाषा पाइथन है।

ब्लॉगर एक अमेरिका (USA) की ऑनलाइन कंटेंट मैनेजमेंट सिस्टम (CMS) है। ब्लॉगर की मदद से लोग अपने विचारों और जानकारियों को ब्लॉगपोस्ट के रूप में पूरी दुनियां तक मुफ्त में पंहुचा सकते है।

इस प्लेटफार्म पर आप अपने आर्टिकल को ऑनलाइन लिख सकते है, उसमे सुधार कर सकते है और फिर उसे पब्लिश कर के प्रमोट भी कर सकते है।

वर्डप्रेस क्या है?

वर्डप्रेस एक वेब कंटेंट मैनेजमेंट सिस्टम है। ये एक मुफ्त और ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर है। ये दुनिया का सबसे प्रसिद्ध वेबसाइट बिल्डर है। वर्डप्रेस को मैट मुलेनवेग और माइक लिटिल द्वारा 27 मई 2003 को इंट्रोड्यूस किया गया था।

See also  Micro Niche Blog Ideas » जाने हिंदी में 12 बेस्ट आइडियाज

इसका इस्तेमाल कोई भी कर सकता है। इसे शुरुआत में सिर्फ ब्लॉग बनाने के लिए बनाया गया था। लेकिन बाद में वर्डप्रेस से अन्य प्रकार के वेब कंटेंट को भी पब्लिश किया जाने लगा।

ब्लॉगर के फायदे और नुक्सान

a blogger.com blog

क्रमांक      फायदे     नुकसान
1.सिर्फ गूगल अकाउंट की मदद से एक ब्लॉग को आसानी से बनाया जा सकता है।इसमें कस्टमाइज़ेशन के बहुत कम ऑप्शनस है। 
2.इसमें होस्टिंग और सब-डोमेन बिलकुल मुफ्त है। ब्लॉगर पर ब्लॉग बनाना मुफ्त है। इस पर आपको सिर्फ बुनयादी फीचर्स ही मिलेंगे। 
3.इसपर थोड़ी सी लर्निंग के साथ कोई भी एक नया ब्लॉग बना सकता है। ये बहुत ही यूजर-फ्रेंडली है। आपका अपने ब्लॉग पर बहुत कम नियंत्रण रहेगा 
4.इसपर आपको मुफ्त SSL सर्टिफिकेट मिलेगा। आपको होस्टिंग प्लान और डोमेन का नाम अलग से खरीदना होगा।
5.क्योंकि इसे गूगल मैनेज करता है, इसलिए ये बहुत ही ज्यादा सुरक्षित और भरोसेमंद है। ब्लॉगर में SEO के ज्यादा ऑप्शनस नहीं है।
6.इसपर आपको अनलिमिटेड स्टोरेज मिलती है।इसमें आप अपने तरफ से नए फीचर्स जोड़ नहीं सकते। 
7.एक अकाउंट से 100 ब्लॉग तक बनाये जा सकते है। डिज़ाइन के बहुत कम ऑप्शन है, क्योंकि इसपर टेम्पलेट्स बहुत कम है। 
8.इसको जल्दी-जल्दी अपडेट नहीं किया जाता। 
9.गूगल आपके ब्लॉग को किसी भी समय बंद कर सकता है या पुरे ब्लॉगर की सर्विसस को भी बंद कर सकता है। 

वर्डप्रेस के फायदे और नुक्सान

a WordPress blog

क्रमांक      फायदे     नुकसान
1.इसमें आपको बहुत ज्यादा तरह के प्लगइन्स मिलते है। इसमें होस्टिंग और सब-डोमेन खरीदना पड़ता है। 
2.वर्डप्रेस पर आपको बहुत ज्यादा फ्री और प्रीमियम थीम्स मिलते है। इसमे स्टोरेज, होस्टिंग कंपनी के ऊपर है, शुरुआत में ज्यादातर कंपनियां 50 GB का स्टोरेज देती है। 
3.वर्डप्रेस 70 भाषाओं को सुप्पोर्ट करता है  इसमें आपको मेंटेनन्स और सिक्योरिटी खुद ही देखनी पड़ेगी। 
4.वर्डप्रेस पर SEO करने के बहुत ज्यादा ऑप्शनस है। इस पर काम करने के लिए आपको शुरुआत में थोड़ी बहुत धन-राशि की जरुरत पड़ेगी। 
5.इसमें कस्टमाइज़ेशन करने के लिए बहुत ज्यादा ऑप्शनस है।इसे सिखने में ब्लॉगर से थोड़ा ज्यादा समय लगता है। 
6.ये थर्ड-पार्टी सर्विसेज के साथ आसानी से काम करता है। वर्डप्रेस पर आपको अपने वेबसाइट की परफॉरमेंस की निगरानी खुद ही करनी पड़ेगी
7.इसपर आप कस्टम कोड और कॉम्प्लेक्स  फीचर्स को बहुत आसानी से डाल सकते हो। 

ब्लॉगर और वर्डप्रेस में से बेहतर कौन? (Blogger vs WordPress which one is better)

क्रमांक पैरामीटरस                 ब्लॉगर                वर्डप्रेस         विजेता
1.सबसे यूजर फ्रेंडली कौन है?ब्लॉग बनाना बहुत आसान है। क्योंकि इसके लिए बस आपको एक गूगल अकाउंट बनाना है।  ब्लॉग बनाने के लिए बहुत ज्यादा स्टेप्स को फॉलो करना पड़ता है। ब्लॉगर 
2.कस्टमाइज़ेशन करना या नए फीचर्स को लगाना कोडिंग (HTML) की जरुरत पड़ती है। डिज़ाइन, कस्टमाइज़ेशन या नए फीचर्स के लिए बहुत सारे प्लगइन्स है। वर्डप्रेस
3.वेबसाइट या ब्लॉग का मालिकाना हकगूगल कंपनी द्वारा संचालित किया जाता है और ब्लॉग का मालिकाना नियंत्रण गूगल के पास रहता है। ब्लॉग का मालिकाना हक आपके पास रहता है। आप जब चाहे किसी दूसरे कंपनी की होस्टिंग ले सकते है। आपका ब्लॉग  सिर्फ आप ही बंद कर सकते है।वर्डप्रेस
4.सुरक्षागूगल की मजबूत सुरक्षा प्रणाली आपको अपने ब्लॉग की सुरक्षा की चिंता से मुक्त करती है। आपको अपने ब्लॉग की सुरक्षा की जिम्मेदारी खुद लेनी होगी। हालाँकि सुरक्षा के लिए वर्डप्रेस पर होस्ट के अलावा बहुत सारे प्लगइन्स उपलब्ध है। लगभग बराबर (फिर भी ब्लॉगर सही है)
5.सुप्पोर्ट बहुत ही लिमिटेड सुप्पोर्ट कोई भी वन टू वन सुप्पोर्ट नहीं यहाँ पर आपको कम्युनिटी सुप्पोर्ट सिस्टम और प्रश्न-उत्तर फोरम मिलेगा। जो आपको पूरा सुप्पोर्ट देंगे। वर्डप्रेस
6.डेटा पोर्टेबिलिटीSEO रैंकिंग बिगड़ने के पूरी संभावना रहती है। डेटा एक्सपोर्ट करने के बाद भी गूगल के सर्वर पर लम्बे समय तक रहता है। आप अपने ब्लॉग को आसानी से दूसरे होस्ट और CMS पर मूव कर सकते है। इसके अलावा आप डोमेन का नाम भी बदल सकते है। वर्डप्रेस
7.खर्चाइसपर सबकुछ बिलकुल मुफ्त है। लेकिन आप ब्लॉगर के अलावा कही और से डोमेन लेंगे तो आपको पैसे खर्च करने पड़ेंगे। वर्डप्रेस सॉफ्टवेयर फ्री है। लेकिन आपको होस्टिंग, डोमेन, प्रीमियम प्लगइन्स और प्रीमियम थीम्स के पैसे खर्च करने पड़ेंगे।ब्लॉगर 
8. मार्केटिंग और SEO ब्लॉगर पर मार्केटिंग और SEO के बहुत ही लिमिटेड ऑप्शनस है। वर्डप्रेस पर SEO के लिए बहुत से फीचर्स है। इसके अलावा इसपर आपको बहुत से Yoast SEO और AIOSEO जैसे प्लगइन्स मिल जाते है जो आपके काम को बहुत आसान कर देते है। वर्डप्रेस
9. नियंत्रण और फ्लेक्सीबिलिटी बहुत ही कम गैजेट्स है और उनमे फंक्शन्स भी लिमिटेड है। इसपर आप अपने ब्लॉग के डिज़ाइन और फीचर्स के साथ ज्यादा बदलाव नहीं ला सकते। यहाँ पर आपको बहुत से प्लगइन्स मिलते है। इसके अलावा आप थर्ड-पार्टी के प्लगइन और कोड को अपने ब्लॉग पर लगा कर अपने ब्लॉग में ज्यादा बदलाव ला सकते है। वर्डप्रेस
10.मोनेटाइजेशन ऑप्शनसआप इस्पे ज्यादा एड्स नहीं लगा सकते। इसकी पुरानी थीम्स बहुत प्रकार के एड्स के लिए अनुकूल नहीं है। ब्लॉगर पर मोनेटाइजेशन के ऑप्शनस बहुत कम है। आप इस्पे एड्स को अपने हिसाब से कस्टमाइज कर सकते है। इसके बहुत तरह के थीम्स एड्स के कस्टमाइज़ेशन को बहुत अच्छे तरीके से करते है। वर्डप्रेस पर मोनेटाइजेशन के ऑप्शनस बहुत ज्यादा है।वर्डप्रेस

निष्कर्ष (Conclusion)

वर्डप्रेस और ब्लॉगर के कस्टमाइज़ेशन ऑप्शनस से आप अपने लिए एक अच्छा सा ब्लॉग बना सकते है। लेकिन सबके अपने कुछ फायदे और नुक्सान है।

See also  Blog Kaise Banaye: पूरी जानकारी हिन्दी में

वर्डप्रेस एक ओपन-सोर्स सॉफ्टवेयर है जिसकी सैकड़ो प्लगइन्स की मदद से आप एक मनचाहा ब्लॉग या वेबसाइट बना सकते है। हालाँकि ब्लॉगर पर आपको डिजाइनिंग और नए फीचर्स लगाने के लिए ज्यादा ऑप्शनस नहीं मिलते है।

अब आप वर्डप्रेस और ब्लॉगर के तुलनात्मक अंतर को देखने के बाद आसानी से निर्णय ले सकते है की आपके लिए कौन सा ब्लॉगिंग प्लेटफार्म सबसे बेहतर रहेगा।

Author: webflairs

I like to explore qaulity infrmation over the internet and make sure that I can hep you with that.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *