off page seo

Off Page SEO in Hindi » जाने सही जानकारी आपकी साइट के लिए

Spread the love

हम जब भी कोई ब्लॉग या वेबसाइट बनाते है तो हम चाहते है की हमारे ब्लॉग पर ज्यादा से ज्यादा ट्रैफिक आये। किसी भी वेबसाइट या ब्लॉग को ज्यादा ट्रैफिक लाने या सर्च इंजन रिजल्ट पेज में अपनी रैंकिंग बढ़ाने के लिए बहुत से चीज़ें करनी पड़ती है। जैसे की अपने वेबसाइट पर विज्ञापन के माध्यम से ट्रैफिक लाना, ब्लॉग का SEO कर के ट्रैफिक लाना, इत्यादि। इस लेख में आप SEO वाले तरीके के बारे में जानेंगे खासकर की off page seo in hindi और ऑफ-पेज एसईओ चेकलिस्ट के बारे में।

ऑफ पेज SEO क्या है? (What is off page SEO?)

किस भी वेबसाइट या ब्लॉग का SEO दो तरीकों से किया जाता है – On page and Off page SEO

आखिर ऑफ-पेज एसईओ क्या है? इसका सरल सा उत्तर ये है की “जब भी हम अपनी वेबसाइट या ब्लॉग को छोड़कर किसी दूसरे की वेबसाइट पर या कुछ भी ऐसा काम करते है, जिससे की हमारी वेबसाइट की सर्च इंजन (SERP) में रैंकिंग बढे या उसमे कुछ बदलाव हो तो उसे हम ऑफ-पेज एसईओ कहते है।

ऑफ-पेज एसईओ के कुछ उदहारण जैसे की अपनी साइट के लिए बैकलिंक्स बनाना, सोशल मीडिया पर अपने लिंक्स को साझा करना, दूसरों की वेबसाइट से कोलाब्रेट करना, गेस्ट पोस्टिंग, इत्यादि।

See also  Blogging se paise kaise kamaye: जाने पूरी जानकारी हिन्दी में

ऑफ-पेज एसईओ करने से पहले ये करे (Off page SEO checklist in Hindi)

off page seo in hindi

ऑफ-पेज एसईओ करने से पहले आपको बहुत सी चीज़े चेक करनी पड़ेगी। जैसे –

1. अपने वेबसाइट के बैकलिंक प्रोफ़ाइल का मूल्यांकन करना होगा – आपको अपने बैकलिंक प्रोफाइल को चेक करने के लिए SEO टूल्स का इस्तेमाल करना होगा। इससे आपको ये पता चल जाएगा की आपके वेबसाइट के बैकलिंक्स कहा-कहा बने है, और उनमे से कौन-कौन से काम कर रहे है। इसके अलावा आप अपनी वेबसाइट से जुड़े बैकलिंक्स के बारे में और भी बहुत सारी जानकारियां इकट्ठी कर सकते है।

2. इंटरनल लिंकिंग को सुधारे और उसे अच्छे से करें – आपको अपनी वेबसाइट की आंतरिक लिंकिंग में सुधार करना होगा। इसके लिए आपको कम से कम 3 लिंक्स को एंकर टेक्स्ट के साथ अपने ही दूसरे पेजस के साथ अच्छे से लगाना होगा।

3. 404 errors को ठीक करे – आपको अपनी वेबसाइट पर चेक करना होगा की सारे लिंक्स एक्टिव है की नहीं। कोई भी लिंक बंद या टूटी नहीं होनी चाहिए। क्योंकि इससे यूजर और सर्च इंजन के क्रॉलरस का अनुभव खराब हो जाता है, जो की अच्छा नहीं है।

ये कुछ बुनियादी चीज़े करने के बाद आप ऑफ-पेज एसईओ करना शुरू कर सकते हैं।

ऑफ-पेज SEO कैसे करें? (How to do off page SEO in Hindi?)

आप ऑफ-पेज एसईओ बहुत से तरीको से कर सकते है। चलिए ऑफ-पेज एसईओ करने के कुछ ख़ास तरीके जानते है –

बैकलिंक्स बनाना (Creating backlinks)

ऑफ-पेज एसईओ करने के सबसे अच्छे और आसान तरीको में से एक तरीका बैकलिंक्स बनाना है। बैकलिंक्स को अगर हम आसान भाषा में समझे तो ये वो लिंक्स होते है, जो हम दुसरो की वेबसाइट पर बनाते है या कोई और हमारी वेबसाइट का लिंक अपने वेबसाइट पर लगता है।

See also  Classified Sites in India: 100 Genuine Classified Sites List [2024]

अच्छी क्वालिटी के बैकलिंक्स बनाने से हमारे वेबसाइट की सर्च इंजन रिजल्ट पेज (SERP) पर रैंकिंग के साथ हमारे वेबसाइट का ट्रैफिक भी बढ़ता है। क्योंकि हमारे वेबसाइट के जितने ज्यादा बैकलिंक्स होंगे, दुसरो की वेबसाइट से अपनी वेबसाइट पर ट्रैफिक आने की उम्मीद उतनी ही ज्यादा होगी।

बैकलिंक्स बनाते वक़्त हमे हमेशा ध्यान रखना चाहिए की हम अपने से ज्यादा डोमेन अथॉरिटी (DA) वाले वेबसाइट पर बैकलिंक्स बनाये। बैकलिंक्स बनाने के लिए आपको ज्यादा डोमेन अथॉरिटी वाले वेबसाइटस को ढूंढना होगा। इस काम को करने के लिए आपको बहुत से वेबसाइटस की डोमेन अथॉरिटी चेक करनी पड़ेगी।

डोमेन अथॉरिटी चेक करने के लिए आप ahrefs और SEMrush जैसी वेबसाइट पर जाकर SEO टूल्स से डायरेक्ट चेक कर सकते है। या फिर कोई SEO टूल ब्राउज़र एक्सटेंशन भी डाउनलोड कर सकते है, जैसे की मोजबार।

बैकलिंक्स बनाने के लिए आप माइक्रो ब्लोग्स लिख सकते है, क्लासिफाइड सबमिशन कर सकते है और सोशल बुकमार्किंग भी कर सकते है। चार बहुत ज्यादा डोमेन अथॉरिटी वाले वेबसाइटस पर बैकलिंक्स बनाने के सही तरीके के बारे में जानने के लिए पढ़े Backlink Kaise Banaye

गेस्ट पोस्टिंग करना (Guest posting)

बहुत से लोग बैकलिंक्स बनाने के लिए गेस्ट पोस्टिंग का भी इस्तेमाल करते है। गेस्ट पोस्टिंग करने के लिए आपको अपनी वेबसाइट से ज्यादा डोमेन अथॉरिटी वाले वेबसाइट या ब्लॉग के लिए पोस्ट लिखना या तैयार करना पड़ता है। गेस्ट पोस्ट के बदले में आप उनसे एक हाई क्वालिटी बैकलिंक मांग सकते है।

गेस्ट पोस्टिंग करने के लिए आपको हाई डोमेन अथॉरिटी वाले वेबसाइट को खोजकर उसके एडमिन को गेस्ट पोस्टिंग के लिए मेल करना होगा। और उन्हें विश्वास दिलाना होगा की आप उनके वेबसाइट के लिए एक हाई वैल्यू का पोस्ट लिख सकते है। इसके बाद आप उनसे बैकलिंक लेने की बात कह सकते है।

See also  Blog Kaise Banaye: पूरी जानकारी हिन्दी में

सोशल मीडिया पर शेयर करना (Sharing on social media)

आज कल लोग सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स जैसे की यूट्यूब, फेसबुक, इंस्टग्राम, ट्विटर, इत्यादि का इस्तेमाल कर के अपने वेबसाइट या ब्लॉग पर ट्रैफिक ला रहे है। इस तरीके को भी ऑफ-पेज एसईओ करना कहा जाता है। सोशल मीडिया से ट्रैफिक लाने के दो तरीके हो सकते है।

पहला की आप अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर फॉलोवर्स की संख्या बढ़ाये। फॉलोवर्स की संख्या को बढ़ाने के लिए आपको अपने अकाउंट पर नियमित रूप से कंटेंट डालना होगा। जब आपके फॉलोवर्स बढ़ने लगे तो आप अपनी वेबसाइट या ब्लॉग के बारे में उन्हें बता सकते है।

दूसरे तरीके में आपको ऐसे लोगों को खोजना होगा, जिनके सोशल मीडिया पर पहले से ही बहुत ज्यादा फॉलोवर्स है। ऐसे लोगो से संपर्क करे और उनके सामने अपने विचार प्रकट करे।

निष्कर्ष (Conclusion)

आपको अपनी वेबसाइट की रैंकिंग को बढ़ाने के लिए ऑफ-पेज एसईओ करना ही पड़ेगा। बिना ऑफ-पेज एसईओ के वेबसाइट को रैंक होने में और भी ज्यादा समय लगेगा।

आप अपनी वेबसाइट पर ट्रैफिक आर्गेनिक तरीके से भी ला सकते है या एड्स के माध्यम से भी ला सकते हो। लेकिन एसईओ की वजह से जो ट्रैफिक आता है, उसके कन्वर्शन के चांस बहुत ज्यादा होते है।

लेकिन एक बात ये भी सच है की एसईओ का रिजल्ट थड़ा देर से मिलता है, और एड्स का रिजल्ट थोड़ा जल्दी। लेकिन एसईओ का रिजल्ट ज्यादा बेहतर और सुन्दर होता है। किसी भी वेबसाइट या ब्लॉग की डोमेन अथॉरिटी बनने में समय लगता है। इसलिए आपको धैर्य बनाये रखना चाहिए।

इस लेख में आपने जाना की off page seo in hindi क्या है और इसे कैसे करे। यदि आपके मन में कोई भी सवाल हो तो, आप हमे कांटेक्ट करके पूछ सकते है।


Posted

in

by

Tags:

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *